सावधान लंबे समय तक बैठने से हो सकती हैं ये 8 तरह की परेशानी

Posted by Admin 27/10/2015 0 Comment(s) Health,

ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने हाल ही उन लोगों के लिए चेतावनी जारी की है जो लंबे समय तक लगातार बैठकर काम करते हैं।

 

इन वैज्ञानिकों का कहना है कि एक ही मुद्रा में लंबे समय तक बैठे रहने से शरीर के हर अंग को नुकसान

 

लंबे समय तक बैठने से रक्तके थक्के जम जाते हैं जो मस्तिष्क में पहुंचकर स्ट्रोक का सबब बन सकते हैं।

 

दिनभर बैठे रहने से पल्मोनरी एम्बोलिज्म यानी फेफड़ों में रक्त के थक्के जमने की आशंका बढऩे लगती है।

 

घंटों बैठे रहने की वजह से इस अंग के सुन्न होने या हाई ब्लडप्रेशर का खतरा बढ़ जाता है।

 

बैठे रहने से मोटापा, कोलोन कैंसर आदि बीमारियों का खतरा रहता है। इससे रक्तधमनियों में वसा के जमाव को घटाने वाले एंजाइम ठप हो जाते हैं और शरीर की गतिविधि कमजोर पडऩे लगती है।

 

बैठे रहने से गर्दन की मांसपेशियों में दर्द होने की आशंका भी रहती है।

 

हमारे इस अंग में रक्त का संचालन सही न होने से सुन्नता और नसों में क्षति आदि के खतरे की आशंका बढ़ जाती है।

 

आलस्यपूर्ण एवं शारीरिक गतिविधि से विहीन जीवनशैली का दुष्परिणाम इंसान को हार्ट अटैक या डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियों के रूप में भोगना पड़ सकता है।

 

लगातार बैठे रहने से रीढ़ की हड्डी पर जोर पड़ता है। इस वजह से रीढ़ की हड्डी में दर्द या इंजरी आ सकती है।

 

बैठे रहने से पैरों में तरल इकट्ठा हो जाता है। रात को जब हम सोते हैं तो यह गर्दन तक आ जाता है जिससे स्लीप एप्नीया यानी सोते समय सांस में रुकावट की समस्या होने लगती है। वहीं खड़े होने या इधर-उधर टहलते रहने से यह तरल शरीर में चारों ओर फैलता रहता है।

 

सावधानी बरतें

चिकित्सकों के मुताबिक अगर आप डेस्क जॉब पर हैं या बैठे-बैठे लंबे समय तक काम करते हैं तो दिनभर में तीन से चार घंटे खड़े रहने या टहलने का बहाना खोजें।

 

ऑफिस में लगातार दो-तीन घंटे तक बैठकर काम करने के बाद पांच से दस मिनट के लिए टहल लें। ऑफिस में लिफ्ट के बजाय सीढिय़ों का प्रयोग करें। कुर्सी पर बैठे- बैठे ही हाथों और पैरों को हिलाएं-डुलाएं ताकि रक्तका प्रवाह सुचारु रूप से बना रहे।