वृश्चिक राशिफल 2016 - Vrishchik Rashifal

Posted by 4Remedy 24/12/2015 0 Comment(s) Rashi,

वृश्चिक राशिफल 2016 - Vrishchik Rashifal

 

भविष्यफल के बारे में चर्चा करने से पहले यह आवश्यक है कि वर्ष 2016 में ग्रहों की स्थितियों का अध्ययन किया जाए, क्योंकि पूरा भविष्यफल ग्रहों के चाल पर ही निर्भर करता है। यह बात आप भी भलि-भाँति जानते हैं। ग्रहों की स्थितियों की ओर एक नज़र डाला जाए तो, वर्ष की शुरूआत में शनि वृश्चिक में और गुरू सिंह में प्रवेश कर रहा है। राहु और केतु अपनी वर्तमान अवस्था में रहने के पश्चात् यानि 31 जनवरी के बाद क्रमशः सिंह और कुम्भ में प्रवेश करेंगे। पूरी तरह से वैदिक ज्योतिष पर आधारित इस भविष्यफल को पढ़ने के बाद आप साल 2016 में होने वाली गतिविधियों से पहले ही परिचित हो जाएंगे और हमें पूरा विश्वास है कि यह भविष्यफल नए साल में आपके लिए हर कदम पर मददगार साबित होगा।

पारिवारिक जीवन

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए वर्ष 2015 का राशिफल।नए साल में परिवार के साथ संबंध अच्छे रहने वाले हैं। भाई-बहन और चाहने वालों की ओर से ख़ुशियाँ मिलने वाली है। इन लोगों के साथ आपका ताल-मेल भी बना रहेगा। हालाँकि साल के कुछ दिनों में आपको लगातार कई उतार-चढ़ाव भी झेलने पड़ सकते हैं। लेकिन अगस्त के बाद आपके पारिवारिक संबंधों में मधुरता आएगी, परंतु इससे पूर्व सावधानी बरतना बेहद ही ज़रूरी है। माता के साथ संबंध अच्छे नहीं रहेंगे, क्योंकि हमेशा कुछ न कुछ विवाद होने की संभावना है, लेकिन पिता के साथ ठीक इसके विपरीत होगा। पिता का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा। संतान से ख़ुशी मिलेगी, लेकिन उनका ज़िद्दी रवैया आपको कभी-कभी परेशान कर सकता है। यदि वैवाहिक जीवन में आप ख़ुशियों को लाना चाहते हैं तो जीवनसाथी के साथ सामंजस्य स्थापित करने की कोशिश करें।

 

 

स्वास्थ्य

इस साल आपको कोई शारीरिक परेशानी तो नहीं होने वाली है, मगर आलसीपन रवैये के कारण आपकी दिनचर्या प्रभावित हो सकती है। काम को आगे टालने के बारे में सोचेंगे। स्वभाव चिड़चिड़ा हो सकता है, इसे जितना जल्दी हो सके त्यागने का प्रयास करें। ह्रदय और पेट संबंधी कुछ परेशानी हो सकती है। पैर में भी दर्द से दो-चार होना पड़ सकता है। अतः इस वर्ष सेहत को लेकर थोड़ा सज़ग रहें।

 

आर्थिक जीवन

गुरू आपके दूसरे भाव यानि धनभाव का स्वामी है। इस वर्ष यह काफ़ी दिनों तक राहु के साथ भी रहने वाला है। सामान्यतः राहु हानि देने होता है और इसके कारण बेकार के कार्यों में आपकी भागीदारी बढ़ेगी। इस समय अपनी जमापूंजी के प्रति पूरी सावधानी बरतें। 11 अगस्त के बाद गुरू राहु से श्रेष्ठ हो जाएगा, इसके बाद आप किसी भी प्रकार का निवेश कर सकते हैं, निश्चित तौर पर लाभ होगा, इसमें कोई संदेह नहीं है। शेयर बाज़ार बेहतर लाभ होने की संभावना है, इसलिए इसमें अपनी सहभागिता बनाए रखें। यदि बृहस्पति की अंतरदशा या महादशा चल रही है तो अपार धन की प्राप्ति हो सकती है। अगस्त के बाद का समय आपकी मुठ्ठी में होने वाला है।

 

नौकरी पेशा

राहु के दसवें भाव में होना और गुरु के साथ इसकी युति आपकी परेशानियों का कारण बन सकती है। कार्यस्थल पर सभी ग़लत कार्यों के लिए आपका अहंकारापूर्ण रवैया ज़िम्मेवार होगा। अगस्त तक अपने ग़ुस्से पर काबू रखें वरना इसके भयंकर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। किसी वरिष्ठ के साथ तक़रार होने की प्रबल संभावना है, अतः इस प्रकार के विवादों से बचने के लिए अपने स्तर पर पूरी तरह से एहतियात बरतें।

 

कारोबार

कारोबार से इस वर्ष आप अच्छे मुनाफ़े की उम्मीद कर सकते हैं। अवैध स्रोतों से भी दोगुना मुनाफ़ा होने वाला है। लघु व्यवसाय से भी आपको बेहतर मुनाफ़ा मिलेगा, इसलिए इस पर ज़्यादा ध्यान देने की ज़रूरत है। इस वर्ष भाग्य आपकी पूरी तरह से मदद करने वाला है। दोस्तों और चाहने वालों की मदद से आपके कई महत्वपूर्ण कार्य पूरे होंगे। हालाँकि इसके बावज़ूद भी वर्ष के कुछ दिनों में मुश्किलें बढ़ सकती हैं। व्यापारिक भागीदारों के साथ तर्क-वितर्क हो सकता है और वे आपको धोखा भी दे सकते हैं। कुल मिलाकर आपको पूरी तरह से सतर्क रहने की आवश्यकता है।

 

प्रेम-संबंध

प्रेम-संबंधों से प्रसन्नता मिलने वाली है, लेकिन अगस्त के बाद। इसके पहले अपने रिश्तों को बनाए रखने के लिए एक दूसरे को समझने की कोशिश करें और सुझ-बूझ से काम लें। एक ऐसा भी समय आएगा जब आप दोनों के बीच बात-चित भी बंद हो सकती है। ऐसे समय में हाथ-पर-हाथ धरे बैठने के बज़ाय इस समस्या को दूर करने का विकल्प ढूंढ़ना बेहतर होगा। चाहे जैसे भी हो एक दूज़े के बीच की दूरियों को ख़त्म करने की कोशिश करें। हालाँकि अगस्त के बाद सबकुछ बेहतर हो जाएगा और आप एक दूसरे के साथ जुड़ाव महसूस करेंगे।

 

सेक्स लाइफ़

सेक्स लाइफ़ बेहतर रहने वाली है। यौन सुखों का आनंद आपको पूरे साल मिलने वाला है। संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी और यह आपको आत्मसंतुष्टि प्रदान करेगा। जीवनसाथी के साथ वैवाहिक जीवन का भरपूर आनंद मिलेगा और शारीरिक सुखों की भी प्राप्ति होगी। अप्राकृतिक क्रियाओं के प्रति आपका रूझान हो सकता है, लेकिन इससे दूर ही रहें तो बेहतर होगा।

 

सावधानी बरतने वाले दिन

पूरे साल में जब भी चंद्रमा मिथुन के साथ हो तो सभी प्रकार की स्थगित कर दें। वहीं चंद्रमा के सिंह, वृश्चिक या कुम्भ में प्रवेश करने पर प्रमुख फ़ैसलों को कुछ दिनों के लिए टाल दें। 9 जनवरी से 20 जनवरी , 7 मार्च से 6 अप्रैल, 1 मई से 17 मई, 25 जून से 20 जुलाई, 7 सितंबर से 19 सितंबर, 8 अक्टूबर से 29 नवंबर और 22 दिसंबर 2016 से 5 जनवरी 2017 तक किसी प्रकार के बड़ें निवेश करने और प्रमुख निर्णय लेने से पूरी तरह परहेज़ करें।

उपाय

आपके लिए सबसे बेहतर उपाय यही होगा कि आप हनुमान चालिसा का नियमित रूप से पाठ करें। अपने आसपास के वातावरण को स्वच्छ रखें और लोगों से ईर्ष्या करने से परहेज़ करें। इससे आपको समय की बर्बादी के अलावा कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है। इसलिए ईर्ष्या का पूरी तरह से परित्याग करें।

 

Write a Comment