कन्या राशिफल 2016 - Kanya Rashifal

Posted by 4Remedy 24/12/2015 0 Comment(s) Rashi,

कन्या राशिफल 2016 - Kanya Rashifal

 

नए साल का आग़ाज़ होने में मात्र कुछ ही दिन शेष बचें हैं। इसे लेकर आपके मन में कुछ हलचल भी हो रही होगी। जैसे - आने वाले साल में क्या कुछ ख़ास होगा? नौकरी मिलेगी या नहीं? आर्थिक स्थिति कैसी रहेगी? ऐसे ही बहुत सारे सवाल होगें जो आपको परेशान कर रहें होंगे। आइए सबसे पहले शुरू करते हैं सितारों (ग्रहों) की चाल से, क्योंकि पूरा ज्योतिष ग्रहों की चाल पर ही आधारित है। वर्ष की शुरूआत में शनि वृश्चिक और बृहस्पति सिंह के साथ हैं। 31 जनवरी के बाद राहु सिंह में और केतु कुम्भ में प्रवेश करेंगे। आइए अब एक नज़र डालते हैं नए साल की संभावनाओं पर।

पारिवारिक जीवन

कन्या राशि के जातकों के लिए वर्ष 2015 का राशिफल।नया साल आपका पारिवारिक जीवन के लिहाज़ से कुछ ख़ास नहीं बितने वाला है। जीवनसाथी के साथ अनबन होने की संभावना है। कुछ दिनों के लिए एक दूजे से दूर भी रहना पड़ सकता है, हालाँकि यह दीर्घकाल के लिए भी हो सकता है। इसके पीछे का कारण आप दोनों के विचारों में असमानता हो सकती है। इसका समाधान मामला ज़्यादा बिगड़ने से पहले ही कर लें तो बेहतर होगा। जीवनसाथी के साथ मतभेद होगा, लेकिन परिवारजनों के साथ रिश्ते मधुर रहेंगे, हालाँकि यहाँ भी वैचारिक मतभेद होने की संभावना है। भाई-बहनों के रिश्तों की बात करें तो यह अनुकूल नहीं रहेगा, यही हाल मामा के रिश्तों के साथ भी हो सकता है। 11 अगस्त के बाद समय आपकी झोली में आने वाला है, इसलिए ज़्यादा चिंता करने की कोई बात नहीं है।

 

स्वास्थ्य

वैसे तो आप बेहतर स्वास्थ्य के धनी हैं, लेकिन इस साल के 11 अगस्त तक स्वास्थ्य एक चिंता का विषय हो सकता है। इसके साथ-साथ कुछ हद तक मानसिक तनाव और शारीरिक परेशानी भी सकती है। चेहरा, पाचन-तंत्र, गला और आँत से संबंधित शिकायत हो सकती है। स्वस्थ्य आहार लेने और योग करने से इन परेशानियों से बचा जा सकता है। कोई पुरानी बीमारी फिर से आपको परेशान कर सकती है। अतः इस वर्ष अपनी सेहत का पूरी तरह से ख़्याल रखें और खान-पान पर भी विशेष ध्यान दें।

 

आर्थिक जीवन

नए साल में आर्थिक हानि स्पष्ट रूप से नज़र आ रही है, लेकिन इस मामलें में आप भाग्यशाली हैं। बृहस्पति के बारहवें भाव में बैठने के कारण कुछ लोगों को आर्थिक नुक़सान उठाना पड़ सकता है। पैसों के मामले में कुछ लोग आपके साथ धोखा-धड़ी भी कर सकते हैं, इसलिए ऐसे मामलों में ज़्यादा सतर्क रहें। अपनी क्रिया-कलापों पर ध्यान दें तथा सच्चे और विश्वासी लोगों से ही संबंध रखें तो बेहतर होगा। कुछ ऐसे लोग आपको दग़ा दे सकते हैं जिन पर आप सबसे ज़्याादा यक़िन करते हों और वे आपसे बड़े भी हों। अपने स्व-विवेक का इस्तेमाल करें और ऐसे लोगोंं से दूरी बनाकर रहें।

 

नौकरी पेशा

आपके दशम भाव पर किसी ग्रह की दृष्टि नहीं है जो आपके लिए अच्छा शुभ-समाचार है। मीडिया से जुड़े लोगों को इस वर्ष लाभ मिलने वाला है। कार्यस्थल पर संतुष्टिजनक काम मिलेगा। अगस्त के बाद आपका प्रदर्शन और बेहतर होगा जिसके परिणामस्वरूप आपका नाम होगा। वरिष्ठ अधिकारियों की ओर से सहायता मिलेगी। इससे आपका न केवल काम आसान हो जाएगा वरन आपको सफलता भी मिलेगी और पदोन्नती भी हो सकती है।

 

कारोबार

नौकरीपेशा लोगों को सफलता मिलेगी, लेकिन अगस्त के बाद, क्योंकि अच्छी चीज़े देर से ही मिलती हैं। यदि गुरू और शनि का प्रभाव आपके उपर पड़ रहा है तो संयम से काम लें और किसी प्रकार के निवेश करने से परहेज़ करें। किसी भी प्रकार से धन इक्कठा करने की कोशिश करें, भाग्य आपका साथ अवश्य देगा। व्यापार में अगस्त के बाद ही साझेदारी करें तो बेहतर होगा।

 

प्रेम-संबंध

2016 का यह साल आपके लिए शानदार साबित होगा। यदि आप किसी रिश्ते को शुरू करना चाहते हैं तो यह साल सबसे बेहतर है। दूसरी तरफ जो लोग किसी के साथ रिश्ते निभा रहें हैं उनको भी आत्मिय सुखों की प्राप्ति होगी। हालाँकि अगस्त तक अपने रिश्तों में किसी प्रकार के ख़टास को पैदा न होने दें, इससे आप दोनों के बीच दूरियाँ बढ़ेंगी और रिश्ते ख़राब हो सकते हैं।

 

सेक्स लाइफ़

इस साल आपको भरपूर यौन सुख मिलने वाला है। हालाँकि कभी-कभी जननांगो में कुछ परेशानी हो सकती है और कमज़ोरी का भी आभास हो सकता है। यदि पूरे साल को मिलाकर देखा जाए तो जीवनसाथी से आपको अच्छा सुख मिलने वाला है। आप जीवनसाथी के साथ मौज़-मस्ती भी करना पसंद करेंगे, जिससे आपको दोहरा आनंद मिलेगा। अगस्त तक जितना ज़्यादा संभव हो नाज़ायज़ संबंधों से दूर रहें।

 

सावधनी बरतने वाले दिन

फरवरी 16 से मार्च 12 तक फ़िजूल ख़र्चों से दूरी बनाएँ और निवेश करने से परहेज़ करें। इस अवधि में प्रमुख निर्णय लेने और किसी भी प्रकार के निवेश करने से पूरी तरह बचें। जब चंद्रमा सिंह, कुम्भ और मीन में प्रवेश करें तो सभी प्रकार की यात्रा को कुछ दिनों के लिए टाल दें।

उपाय

जो लोग सूर्य की महादशा या अंतरदशा से गुजर रहें हैं उन्हें आदित्या हृदय स्त्रोत का पाठ और नियमित रूप से सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। यदि शुक्र की महादशा चल रही हो तो कनकधारा स्त्रोत का पाठ करें। यदि गुरू की महादशा चल रही हो तो अपनी क्षमतानुसार दान करें। गुरूवार के दिन उपवास करने से भी लाभ होगा।

Write a Comment