सिंह राशिफल 2016 - Singh Rashifal

Posted by 4Remedy 24/12/2015 0 Comment(s) Rashi,

                                

सिंह राशिफल 2016 - Singh Rashifal

 

वर्ष की शुरूआत शनि के वृश्चिक और बृहस्पति के सिंह में जाने के साथ हो रही है। राहु और केतु अपनी वर्तमान अवस्था में रहने के पश्चात अर्थात् 31 जनवरी के बाद राहु सिंह में और केतु कुम्भ में प्रवेश करेंगे। यह तो सितारों की बात हो गई। परंतु कुछ सवालों का जवाब भी जानना ज़रूरी है। जैसे - आने वाला साल क्या ख़ास लेकर आ रहा है? कौन-कौन सी सावधानियाँ बरतनी होगी? कौन-कौन सा दिन शुभफल देने वाला होगा? आइए वैदिक ज्योतिष पर आधारित भविष्यफल में ढ़ूंढते हैं इन सवालों का जवाब।

 

पारिवारिक जीवन
सिंह राशि के जातकों के लिए वर्ष 2015 का राशिफल। आपकी राशि वर्ष 2016 की उन राशियों में से एक है जिनके सितारे चमकने वाले हैं। कुछ उतार-चढ़ाव भी होंगे, लेकिन वे आपकी ख़ुशियों में किसी प्रकार की बाधा नहीं पहुँचाएंगे। जीवनसाथी के साथ मधुर संबंध रहेंगे। राहु का सिंह पर धावा बोलने के कारण आप दोनों अलग हो सकते हैं या कुछ दिनों के लिए आपसी मतभेद हो सकता है। पिता के साथ संबंध अच्छे रहेंगे, लेकिन माता के साथ वैचारिक मतभेद हो सकता है। चिंता न करें इससे आपकी माता की भावनाएँ आहत नहीं होगी। रिश्तेदारों और चाहने वालों के साथ संबंध अच्छे रहेंगे।


स्वास्थ्य
इस वर्ष आप स्वास्थ्य के धनी रहेंगे। 31 जनवरी के बाद आपकी मानसिक स्थिति थोड़ी प्रभावित हो सकती है। लेकिन चिंता करने जैसी कोई बात नहीं है। वज़न बढ़ने का ख़तरा है, इसलिए मिठाई, घी और मक्खन से दूरी बनाकर रहें। आप अपनी सेहत से बेहद ही प्यार करते हैं, इसलिए ये सुझाव आपकी ज़िन्दगी के हर एक मोड़ पर मददगार साबित हो सकता हैं।


आर्थिक जीवन
इस वर्ष आपकी आर्थिक स्थिति बेहद ही शानदार रहने वाली है। इस सफर में आपको बहुत ही कम चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। ज़िन्दगी के इस सुनहरे पल का भरपूर आनंद लें और अपने कार्यों के प्रति दृढ संकल्पित रहें। कार्यों के प्रति आपके समर्पण से आय में किसी प्रकार की कोई नहीं रहेगी। 11 अगस्त के बाद आपकी आय में अप्रत्याशित वृद्धि होने वाली है।


नौकरी पेशा
नौकरी पेशा लोगों के लिए यह साल ख़ुशियों भरा रहेगा। सवाल यह नहीं उठता है कि आप किस प्रकार की नौकरी कर रहें हैं, प्रत्येक सूरत में आपको सराहना, सहयोग और ऐसी ख़ुशी मिलेगी जिसकी तलाश आप एक लम्बे अरसे से कर रहे थे। आपका प्रत्येक काम समय से पहले पूरा होगा। वर्तमान नौकरी के अलावा अन्य स्रोत से भी आपको लाभ मिलेगा। बृहस्पति की महादशा से गुजर रहे लोगों को दोगुना फ़ायदा होने वाला है।


कारोबार
किसी भी कारोबार का मक़सद सिर्फ़ और सिर्फ़ एक ही होता है, वह है ज़्यादा-से-ज़्यादा मुनाफ़ा कमाना। यह वर्ष आपकी सभी मनोकामनाओं को पूरा करने वाला है। आपकी जन्म कुंडली के अनुसार इस वर्ष अपेक्षाकृत ज़्यादा मुनाफ़ा होने वाला है, लेकिन आपकी सभी मनोकामनाएँ अगस्त के बाद ही पूरी होगी। हालाँकि जो लोग कारोबार या रियल एस्टेट से जुड़े हैं, उनको थोड़ा मायूस होना पड़ सकता है। वैसे चिंता करने की बात नहीं है, आपलोगों को 11 अगस्त के बाद शेयर बाजा़र से अच्छा लाभ होने वाला है। यदि आपके राज्य में लॉटरी ग़ैरकानूनी नहीं है तो इसमें भाग्य आज़मा सकते हैं। सफल होने की संभावना है।

रेटिंग
प्रेम-संबंध
पूरे साल प्रेम-संबंधों में मधुरता क़ायम रहेगी। रोमांस और वासना से आप परिपूर्ण रहेंगे। प्रेम-संबंध वैवाहिक संबंध में बदल सकता है। आपकी ज़िन्दगी शांति, प्यार-मोहब्बत, सामंजस्य और समझदारी से परिपूर्ण रहेगी। 11 अगस्त के बाद आपके प्यार में और प्रगाढ़ता आने वाली है।

रेटिंग
सेक्स लाइफ़
सिंह राशि वाले सेक्स के प्रति हमेशा उतावले रहते हैं। यह सच भी है, इस साल आप भरपूर यौन सुख प्राप्त करेंगे। इस समय केवल आप ही उत्साहित नहीं रहेंगे बल्कि आपका पार्टनर भी जोश से परिपूर्ण रहेगा। जीवनसाथी के साथ सामंजस्य का आप भरपूर आनंद ऊठाएँगे। 11 अगस्त के बाद इसमें और अधिक प्रगाढ़ता आने वाली है। सबकुछ आपके अनुकूल रहने वाला है, इसलिए आपको भरपूर आनंद मिलने वाला है।

रेटिंग
सावधान रहने वाली तारीखें
चंद्रमा के मकर, सिंह कुम्भ या मीन में प्रवेश करने पर यात्रा न करें। इस बात को अपने ज़ेहन में बिठा लें और तथा इस अवधि में कोई भी महत्वपूर्ण फ़ैसले न लें। जनवरी 26 से फरवरी 15 तक व्यक्तिगत औऱ आर्थिक फ़ैसले लेना आपके लिए घातक हो सकता है। जब चंद्रमा सिंह, कुम्भ या मीन मे प्रवेश करें तब भी सतर्क रहने की आवश्यकता है। मार्च 28 से 12 अप्रैल तक ऑनलाइन ख़रीदारी करने से परहेज़ करें। इस अवधि में महँगे सामान की ख़रीदारी पर पैसे ख़र्च करना उचित नहीं होगा। इस वर्ष शेयर बाज़ार से भी दूर ही रहें तो अच्छा रहेगा।

उपाय
यदि आप शनि की महादशा से गुजर रहें है तो पाँच मंगलवार को हनुमान जी को लाल लंगोट चढ़ाएँI सभी प्रकार के अनुष्ठान करें और क्षमतानुसार दान-पुण्य करें। यदि बृहस्पति की महादशा से गुज़र रहें हैं तो ज़्यादा कुछ करने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन जिनके उपर राहु या केतु की महादशा चल रही है उन्हें दिन में तीन बार देवी कवच का पाठ करना चाहिए। अंत में किसी भी ग्रह की दशा और अंतरदशा से बचने के लिए नियमित रूप से हनुमान चालिसा का पाठ करें।

 

 

Write a Comment